Uncategorized खेतिहर राज्य

उपार्जन में कोई भी व्यापारी फसल नहीं बेच पाये, केवल किसानों से ही फसल का उपार्जन किया जाना है – कलेक्टर श्री शुक्ला

देवास । कलेक्टर श्री चन्द्रमौली शुक्ला की अध्यक्षता में समय-सीमा संबंधी लंबित पत्र के निराकरण की प्रगति तथा अंतरविभागीय समन्वय से संबंधित मामलों की समीक्षा बैठक कलेक्टर सभाकक्ष में सम्पन्न हुई। बैठक में सीईओ जिला पंचायत श्री प्रकाश सिंह चौहान, अपर कलेक्टर श्री महेन्द्र सिंह कवचे, संयुक्त कलेक्टर श्री शोभाराम सोलंकी, डिप्टी कलेक्टर सुश्री प्रिया वर्मा, डिप्टी कलेक्टर श्री त्रिलोचन गौड़, सहित अन्य विभागों के जिला अधिकारीगण उपस्थित थे।
कलेक्टर श्री शुक्ला ने निर्देश दिये कि राजस्व वसूली, नामान्तरण और बटवारा सर्वोच्च प्राथमिकता से 31 मार्च से पूर्व अभियान चला कर करें। इसके अलावा बिजली के अधिक बिल, अवैध कॉलोनी, अवैध कब्जा, वनाधिकार पट्टे, भू-अर्जन, शासकीय भूमि को अतिक्रमण से मुक्त करने, भू-माफिया, रेत-माफिया, मिलावट से मुक्ति अभियान के तहत कार्यवाही करने के निर्देश दिये। जल संरक्षण की कार्य योजना बनाकर कार्य करे। सभी पटवारी और राजस्व अमला निश्चित दिनों में अपने मुख्यालय पर उपस्थित रहेंगे।
बैठक में कलेक्टर श्री शुक्ला ने सीएम हेल्पलाइन में दर्ज शिकायतों की समीक्षा की। समीक्षा के दौरान श्री शुक्ला ने निर्देश दिए कि 100 दिन से अधिक समय से लंबित शिकायतों का निराकरण विशेष अभियान चलाकर सुनिश्चित करें। कलेक्टर श्री शुक्ला ने पंचायत एवं ग्रामीण विकास, नगर निगम और राजस्व विभाग को निर्देश दिये कि शिविर लगाकर सीएम हेल्पलाईन शिकायतों का निराकरण करें। कलेक्टर श्री शुक्ला ने निर्देश दिये कि सीएम हेल्पलाइन में दर्ज विभिन्न विभागों की शिकायतों का एल-1 पर ही निराकरण करें तथा शिकायतें एल-02 पर ना पहुंचे, इसका विशेष ध्यान रखे। उन्होंने निर्देश दिये कि सभी शिकायतें शत-प्रतिशत निराकृत हों, कोई भी शिकायत अनअटेंडेंट नहीं रहे। शिकायत अनअटेंडेंट पाये जाने पर संबंधित अधिकारियों के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा की समय-सीमा संबंधी प्रकरणों को शीघ्र निराकृत करें। व्यक्तिगत रूप से शिकायतकर्ता से मिलकर संतुष्टी पूर्वक शिकायतों का निराकरण करने के निर्देश दिये।
बैठक में कलेक्टर श्री शुक्ला ने निर्देश दिये कि पुराने बीमा के प्रकरण की राशि का भुगतान का निपटारा करें। महिला बाल विकास विभाग पोषण आहार के लिए अभियान चलाये। दवाईयों का वितरण करें। आंगनवाडी केन्द्रों में प्रति सप्ताह बच्चों का बजन करें। सभी एसडीएम अपने क्षेत्र में आंगनवाडी केन्द्रों में नास्ता, भोजन के समय जाकर गुणवत्ता की जांच करें और बच्चों की उपस्थिती का निरीक्षण करें और आंगनवाडी केन्द्रों की नियमित रूप से मानिटरिंग करें।
बैठक में कलेक्टर श्री शुक्ला ने निर्देश दिये कि कन्नौद और बागली में वनाधिकार के पुराने लगभग 6 हजार प्रकरणों का स्पाट पर जाकर पुन: परीक्षण करें और पात्र हितग्राही को वनाधिकार पट्टे वितरीत करें। खातेगांव में भू-अर्जन के प्रकरण शिविर लगाकर निराकृत करें।
कलेक्टर श्री शुक्ला ने उपार्जन के संबंध में निर्देश दिये कि उपार्जन में कोई भी व्यापारी फसल नहीं बेच पाये, केवल किसानों से ही फसल का उपार्जन किया जाना है। सभी एसडीएम अपने-अपने क्षेत्र में वेयरहाउस में किया गया अनाज का भण्डारण का सत्यापन कर ले और इस बात का ध्यान रखें की व्यापारी का अनाज उपार्जन केन्द्र में उर्पाजन के लिए नहीं पहुचे। इस तरह की अनाज बेचने की कोई बात सामने आती है तो संबंधित पर कार्यवाही करें। खरीदे गए गेहूं के भंडारण की संपूर्ण व्यवस्था की जाए। सभी उपार्जन केंद्रों पर बारिश को देखते हुए सभी आवश्यक व्यवस्था की जाए। उन्होंने निर्देश दिये कि उपार्जन शुरू होने के बाद प्रत्येक सेंटर पर रोजाना कितना उपार्जन हुआ उसकी नियमित जानकारी भेजे। उन्होंने उपार्जन केन्द्रों पर गेहूं भण्डारण, बारदानों और परिवहन की सम्पूर्ण व्यवस्था करने के निर्देश दिये। उन्होंने निर्देश दिये कि उपार्जन केंद्रों पर टेंट की व्यवस्था, पेयजल की व्यवस्था और टॉयलेट की व्यवस्था करें। उपार्जन केन्द्रों पर भीड़ न लगे इसकी व्यवस्था करें।
बैठक में बताया गया कि जिले में लगभग 1 लाख किसानों ने उपार्जन के लिए पंजीयन कराया है। जिले में 22 मार्च 2021 से उपार्जन कार्य शुरू किया जाएगा। जिले में 142 उपार्जन केंद्रों पर उपार्जन का कार्य किया जायेगा। जिले में चना उपार्जन के लिए 27 केंद्र बनाए गए हैं। जिले में 15 उपार्जन केन्द्र ऐसे बनाए जाएंगे जिसमें स्व-सहायता समूह की महिलाओं द्वारा खरीदी की जाएगी। उपार्जन के समय यह सुनिश्चित करें कि कोई व्यापारी उपार्जन केन्द्र पर फसल नही बेचे। किसानों से ही इस वर्ष की फसल का उपार्जन किया जाना है।
कलेक्टर श्री शुक्ला ने सभी एसडीएम को निर्देश दिये कि अपने-अपने क्षेत्र में कारोना गाईड-लाईन का पालन करवाये। जो लोग बिना मास्क के बाजार में घूम रहे है, उन पर चालानी कार्रवाई करें। जिले में 60 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्तियों को स्वीप टीम के बीएलओं घर-घर जाकर टीका लगवाने के लिए प्रेरित करे और उनका ब्लॉक लेवल पर रजिस्ट्रेशन कराकर वैक्सीनेशन कराये। जिले के 45 से 59 साल के गंभीर बीमारी वाले आम नागरिक अपनी बीमारी की जानकारी देकर अपना रजिस्ट्रेशन कराकर वैक्सीन लगवा सकते है। जिले में वैक्सीनेशन के 35 सेंटर बनाये गये है। इन सेंटरों में निर्धारित दिनों में प्रतिदिन 200 व्यक्तियों को टीका लगाया जायेगा।
कलेक्टर श्री शुक्ला ने निर्देश दिये कि आयुष्मान कार्ड बनाने का अभियान जारी रखे। जिले में 31 मार्च तक आयुष्मान कार्ड बनाने का विशेष अभियान चलाया जा रहा है। अभियान के अंतर्गत 31 मार्च तक नि:शुल्क आयुष्मान कार्ड बनाये जायेंगे। सभी अधिकारी अपने विभाग से जुडे हुए हितग्राहियों का आयुष्मान कार्ड अभियान चलाकर बनवाये। आयुष्मान भारत ‘ÓनिरामयमÓÓ योजना का उद्देश्य गरीब एवं असहाय परिवारों को गुणवत्तापूर्ण इलाज समय पर उपलब्ध कराना है। सभी संबल कार्ड धारी, खाद्यान पर्ची धारी एवं ऐसे सभी लोग जिनका नाम एस.ई.सी. सूची में हैं। वे सभी आयुष्मान कार्ड के लिए पात्र है। कार्ड बनवाने के लिए परिवार समग्र आई.डी., आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, राशन कार्ड इनमें से कोई भी दस्तावेज आवश्यक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *