Uncategorized खेतिहर रतलाम

सीसी फोरलेन बनने से दूर होगी ऊंकाला रोड़ व शास्त्री नगर मुख्य मार्ग की समस्याएं – विधायक काश्यप

  • एम.पी.यू.डी.सी.एल. के मुख्य अभियंता रतलाम आए
  • मिनी स्मार्ट सिटी योजना के कार्यों की समीक्षा की

रतलाम,14 सितम्बर। विधायक चेतन्य काश्यप ने शहर में मिनी स्मार्ट सिटी योजना के तहत चल रहे कार्यों की समीक्षा की। इसके लिए एम.पी.यू.डी.सी.एल. के मुख्य अभियंता विरेन्द्र तिवारी विशेष रूप से रतलाम पहुंचे थे। श्री काश्यप ने उन्हें भविष्य में शहर के प्रमुख मार्ग बनने वाले ऊंकाला रोड़ की सम्पूर्ण सड़क सीमेंट कांक्रीट कर फोरलेन बनाने के निर्देश दिए। इसके साथ ही शास्त्री नगर मुख्य मार्ग की सड़क निर्माण से पूर्व जल भराव एवं अन्य समस्याओं का आंकलन कर कार्य योजना बनाने एवं इसे फोरलेन की तरह विकसित करने के निर्देश भी दिए हैं।
श्री काश्यप ने शासन को म.प्र. अरबन डेवलपमेंट कंपनी लिमिटेड (एमपीयूडीसीएल) द्वारा शहर में मिनी स्मार्ट सिटी योजना के अन्तर्गत हो रहे विभिन्न विकास एवं निर्माण कार्यों की प्रगति पर असंतोष जताया था। इस पर मुख्य अभियता श्री तिवारी रतलाम आए और समस्त कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने श्री काश्यप को मिनी स्मार्ट सिटी योजना के कार्यों की वर्तमान स्थिति से अवगत कराया। श्री काश्यप ने समीक्षा के दौरान ऊंकाला रोड़ एवं शास्त्री नगर मेन रोड़ मुख्य मार्ग का कार्य जल्द से जल्द करने पर जोर दिया।
उन्होंने कहा कि भविष्य में रतलाम शहर के यातायात की दृष्टि से ऊंकाला रोड़ महत्वपूर्ण रहेगा इसलिए इसे पूरा सीमेंट कांक्रीट कर फोरलेन बनाया जाए। श्री काश्यप ने शास्त्री नगर मुख्य मार्ग की सड़क के लिए कार्य आरम्भ करने से पूर्व समस्त समस्याओं का अध्ययन करने एवं उनके निराकरण की योजना बनाकर पुलिया चोड़ीकरण का कार्य भी इसमें शामिल कर इसे फोरलेन की तरह विकसित करने के निर्देश दिए हैं।
श्री काश्यप ने समीक्षा के दौरान महू रोड़ पर निर्मित सड़क की गुणवत्ता की जांच करने एवं सर्विस रोड़ बनाने के निर्देश भी दिए। उन्होंने शहर में चल रहे मिनी स्मार्ट सिटी योजना के अन्य कार्यों हेतु बिजली पोलो के स्थानान्तरण एवं स्ट्रीट लाईट की व्यवस्था सुनिश्चित करने पर भी बल दिया। इस दौरान एम.पी.यू.डी.सी.एल. के मुख्य अभियंता श्री तिवारी के साथ परियोजना प्रबंधक ए.के. मिश्रा, सहायक प्रबंधक संदीप शिंदे एवं सिविल इंजीनियर अमन खंडेलवाल, निगम आयुक्त सोमनाथ झारिया, सिटी इंजीनियर जी.के. जायसवाल आदि मौजूद थे।