Uncategorized खेतिहर देश मंडी भाव

प्याज में निर्यात बंदी के बाद आज प्याज के भावों में मंदी का दौर 1500 से 2500 रु. तक

रतलाम 15 सिंतबर (मोतीलाल बाफना) ।  देशभर में विगत सप्ताह और कल प्याज में आई तेजी के बाद भारत सरकार जीडीएफटी (कृषि मंत्रालय) कृषिमंत्रालय द्वारा कल तत्काल प्रभाव में विदेशों में जाने वाले प्याज की निर्यात पर रोक लगा दी। जिसके कारण 400 से अधिक कंटेनर प्याज बंदरगाहों पर भी व्यापारियों का अटक गया है । जिसके कारण प्याज की तेजी पर एक दम ब्रेक लगा गया और पूरे देश के प्याज उत्पादक राज्यों में उत्पादक कृषक और व्यापारी मंदी की चपेट में आ गए ऐसी आज चर्चा है । आज महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश आदि राज्यों की प्याज की मंडिया खुलने पर प्याज में 500 रू. प्रति क्विंटल की जनरल मंदी देखी गई इसकी चर्चा है । आज मध्यप्रदेश के रतलाम में जो प्याज कल तक 3000 रू.प्रति क्विंटल तक बिका था वह आज 2000 रू. के प्रति क्विंटल के आसपास बिकने की चर्चा है । देशभर के प्याज लोर्डिंग कर व्यापार करने वाले व्यापारियों में भारी घबराहट देखी गई क्योंकि व्यापारियों को भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है और उत्पादक कृषक महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश एवं अन्य राज्यों के में भारी नाराजगी देखने को मिल रही है जो चर्चा है । महाराष्ट्र के उत्पादक कृषक और व्यापारी भारत सरकार के मंत्रीयों और अन्यों से अपने-अपने क्षैत्र के सांसदो आदि माध्यमों से सरकार से चर्चा अपना पक्ष रख रहे है साथ ही एक चर्चा यह भी है कि पोर्ट  के ऊपर कई देशों को निर्यात होने वाला प्याज जो करीबन 400  कंटेनर से कहीं अधिक है जिसकी चर्चा जोरों पर है अगर वह प्याज नहीं जाने दिया गया तो प्याज व्यापारी परेशानी में आ सकते है ऐसी चर्चा है और इधर प्याज के दामों में भी क्वालिटी अनुसार मालों में 300 से 1000 रू. प्रति क्विंटल की मंदी आ सकती है ऐसी संभावना कुछ वर्ग अपने-अपने राज्यों की मंडियों में कर रहे है । अब प्याज की वस्तु स्थिति एक-दो दिन में भाव स्थिर रहने पर जम जाएगी और देश की जनता को प्याज भी थोड़ा सस्ता मिल शुरू होगा । क्योंकि दिल्ली में जनता को 40 रू. प्रति किलो के आसपास बिक्री होने के कारण सरकार ने यह कदम उठाया । क्योंकि कुछ राज्यों में भारी बारिश से प्याज की फसलों को नुकसानी के चलते प्याज में अचानक आई तेजी से विदेशी खरीददार भी प्याज की खरीदी में रूची रखने लगे थे और बंगाल, बिहार, उत्तर प्रदेश की बॉडरों पर प्याज 3800 रू. प्रति क्विंटल से अधिक भावों पर क्वाालिटी अनुसार भावों पर बिकने की चर्चा  कल थी लेकिन आज नई स्थिति बनने के कारण अब बॉर्डरों पर भी प्याज के भाव घट सकते है ऐसी चर्चा है । आज रतलाम सहित मध्यप्रदेश की अन्य मंडियों में क्वालिटी अनुसार 1400 रू. से 2500 रू. प्रति क्विंटल तक बिकने की चर्चा है । एक चर्चा यह भी है कि बदनावर जिला धार की सब्जी मण्डी में प्याज की आवक हजारों बोरी एक चर्चा के मुताबिक करीबन 25 से 40 हजार बोरी के आसपास आवक होती है जो सब्जी मंडी के दायरे से आड़तिए माल बेचते है उसकी अनुज्ञा द्वारा माल निकलता है या नहीं निकलता यह चर्चा का विषय है । क्योंकि वर्तमान में मंडी में आने वाले मालों पर मंडी टेक्स लगना ही है लेकिन बदनावर की मंडी में टेक्स की वसूली को लेकर तरह-तरह की चर्चा व्यक्त की जा रही है ऐसी व्यापारीगण और कृषकों में चर्चा है । आज महाराष्ट्र की मंडियों में प्याज के दामों में कहीं-कहीं गिरावट भी आई तो कहीं-कहीं पर समान भाव रहने की भी चर्चा थी । महाराष्ट्र की प्याज उत्पादन क्षैत्रों की किसानी बिक्री एवं बिक्री मंडियों में जैसे अहमदनगर, उमराणा, मनमाड़, कराड़, मंनचर, मालेगांव, राहुरी, संगमनेर, वम्बोरी, लॉसलगांव, येवला, चांकण, घोड़ेगांव, कराड़, कोल्हापुर नांदगांव, कलवान, धुिलया, पारनेर, नासिक, चांदवड़, बोलठाण, चालिसगांव, आलेफंटा, पिपलगांव बंसत, नामपुर, राहता, नांदूरासिगोंट, निपाड़ आदि मंडियों में लाल एवं गावनार प्याज एवं प्रमुख बिक्री मंडियाँ मुम्बई, शोलापुर, कोल्हापुर, पुना, नागपुर, अकोला, नांदेड़, औरंगाबाद आदि उत्पादन क्षैत्रों तथा बिक्री क्षैत्रों की मंडियों में प्याज लोकल गावनार एवं लाल कलर का क्वालिटी अनुसार 1500 से 3000 रू. प्रति क्विंटल के आसपास बिक्री होने की चर्चा है । कहीं-कहीं पर प्रात: के निलाम में ऊंची क्वालिटी 3100 रू. प्रति क्विंटल तक बिकने की चर्चा है । गोल्टा-गोल्टी क्वालिटी प्याज में आज ज्यादा मंदी रहने की चर्चा है ।