Uncategorized खेतिहर देश मंडी भाव

आज गून्टूर में लाल मिर्च की आवक 9000 बोरी के आसपास, म.प्र. में 12 से 13 हजार बोरी के लगभग, भाव 8000 से 18000 तक

रतलाम 9 नवंबर (मोतीलाल बाफना) । गून्टूर मंडी में आज लाल मिर्च क्वालिटी अनुसार आज 1२000 से 1९000 हजार तक बिकने की चर्चा है । वहीं कोल्ड स्टोरेज की मिर्ची तेजा ( एस 17 डिलक्स एवं बेस्ट माल) 16000 से 18000 तक, तेजा मीडियम माल क्वालिटी अनुसार 12000 से 16000 तक, 334 एवं एस 10, एस 4, संघेटन डिलक्स 14 से 14500, मीडियम बेस्ट व मीडियम 12000 से 13000 तक, नं. 5 – 12000 से 14000 और डिलक्स 16000, 5531 – 16000 से 17000, 335- 16000 से 18000, 355- 16000 से 18000, 341 – 13000 से 17000, डीडी 15000 से 17000, 273- 15000 से 16000, 4884 – 14000 से 15000, यह सभी माल कोल्ड स्टोरेज का है और तेजा फटकी सहित अन्य फटकी मिर्च क्वालिटी अनुसार 4500 से 10000 तक। गून्टूर मार्केट में डिलक्स और तेजा एस 1७ $डिलक्स मालों में अच्छी ग्राहकी रहीं । आंध्रप्रदेश एवं तेलगांना मंडियों में गून्टूर, खम्मम, वरंगल, मेहबूबाबाद, येय्मीन्नूर, प्रकाशम, ताड़ेपल्लीगुड़म, नांदियाल, करनूल, हिन्दूपुर आदि प्रमुख मंडियो में माल क्वालिटी अनुसार फटकी सहित 5000 से 18000 तक जनरल भाव एवं ऊपर बेस्ट क्वालिटी माल 19000 तक बिकने की चर्चा है । मध्यप्रदेश में खंडवा जिले के कई गांवो में लाल मिर्च की पैदावार होती है और धार जिले के कुक्षी, धामनोद, मनावर, राजपुरा,कसरावद सहित बेडिय़ा मंडी में 12 से 14 हजार बोरी लगभग आने की संभावना बताई जा रही है जहां माही, नवतेज, शक्ति 51, नवतेज, 2070 आता है जो डंडीदार एवं डंडीकट क्वालिटी अनुसार फटकी सहित 8000 से 18000 तक डंडीकट मालों का व्यापार बिल्डी में भी होने की चर्चा है । अभी मार्केट में 20 से 25 प्रतिशत क्वालिटी माल आ रही है और 70-75 माल मीडियम और फटकी क्वालिटी माल आ रहा है । फटकी मिर्च में एक्सपोर्ट व आईल वालों की अच्छी डिमांड रहने की चर्चा है । मध्यप्रदेश की तेजा मिर्च जो विदेशों में निर्यात हुई है उसमें गुणवत्ता (स्वाद) की कमी के कारण वर्तमान में तेजा मिर्च में एक्सपोर्टरों की डिमांड के प्रति रूची कम होने की चर्चा है । वैसे मध्यप्रदेश की तेजा सुपर मिर्च दीपावली के बाद अच्छी आने लगी तो विदेशी एक्सपोर्टरों की डिमांड रह सकती है ऐसी चर्चा है । एक तरफ यह भी चर्चा है कि आंध्र प्रदेश के कन्नू क्षैत्र में बीज की गुणवत्ता कमजोर रहने के कारण मिर्च के उत्पादन भी असर पड़ा है जिसके कारणतेजा मिर्च की क्वालिटियों पर असर पड़ सकता है मध्यप्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक आदि क्षैत्रों में लाल मिर्च जहां उत्पादन होती है वहां पर वायरस की शिकायतें इस बार कुछ स्थानों पर आने से 15 से 20 प्रतिशत फसल खराब होने की आशंका बताई जा रही है इस कारण लाल मिर्च के बाजार में ज्यादा मंदी के आसार कम है। गून्टूर मार्केट मेंनई लाल मिर्च जो आ रही है जो कून्नूल, येमिनूर आदि इलाकोंकी आ रही है उसमें भी बरसात का पानी लगा माल आने की चर्चा है और भाव 8500 से 18500 तक क्वालिटी अनुसार रहने की चर्चा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *