मध्यप्रदेश में लहसुन आज 13500 रुपए तक बिका, तमिलनाडु ऊटी बिजु माल के बरसात के कारण फसल कमजोर होने की चर्चा

(मोतीलाल बाफना)

रतलाम(10 जुलाई 2019)। आज मध्यप्रदेश की प्रमुख लहसुन मंडी में ऊटी क्वालिटी की लहसुन 13500 रुपए प्रति क्विंटल तक बिक्री हुई तथा पिपलिया, मंदसौर, दलौदा, जावरा, रतलाम, पिपलौदा, सैलाना, नामली, बदनावर, उज्जैन, इंदौर, शुजालपुर, सागर (देवरीकला)  आदि मंडियों में लहसुन की आवक अच्छी रहने की चर्चा है। और एक चर्चा यह भी है कि वर्तमान लहसुन की आवक जोरदार रहती है तो लहसुन बाजार में ढिलापन आ सकता है। कारण की उत्पादक कृषकों के पास स्टॉक में माल अच्छी मात्रा में होने की चर्चा है। वे भी भावों का इंतजार कर रहे थे और अब अच्छे बड़े मालों में और सभी लहसुन में भाव ठीक हो गए हैं। आज मध्यप्रदेश की मंडियों में लहसुन क्वालिटी अनुसार 3000 से 9500 रुपए प्रति क्विंटल तक जनरल भाव ऊंचे में माने जाते हैं। वैसे तो 7500 रुपए से 8500 रुपए तक की ही रेंज ज्यादा है। अभी बरसात रुकने से मंडियों में लहसुन की आवक बढ़ गई है। वहीं बिक्री सेंटरों पर देशभर में ऊंचे भावों पर लहसुन की बिक्री पर ब्रेक भी लगा हुआ है। अभी एक्सपोर्ट में भी कोई बड़ा व्यापार नहीं होने की चर्चा है। लहसुन में सारी तेजी-मंदी उत्पादक कृषकों के मंडियों में माल लाकर बिक्री करने पर निर्भर हो गई है। वैसे मध्यप्रदेश, राजस्थान, गुजरात, उत्तरप्रदेश, पंजाब आदि राज्यों का लहसुन निकल रहा है और वहां की बिक्री मंडियों में आकर बिक्री हो रहा है। हिमाचल प्रदेश का और कश्मीर का लहसुन भी निकल रहा है। जो तमिलनाडु मंडियों में ही उसकी बिक्री ज्यादा है। एक चर्चा के मुताबिक तमिलनाडु के ऊटी के मेट्रोपोलियम तथा वडुगापट्‌टी की मंडियों में जो बिजु लहसुन आने वाला है वह वहां पर कम बरसात होने की वजह से थोड़ी फसल कमजोर आ सकती है ऐसी वहां के उत्पादकों में चर्चा है। इस साल नया ऊटी बिजु लहसुन 100 रुपए से 300 रुपए प्रति किलो तक वहां की मंडियों में बिक्री हो सकता है। राजस्थान, उत्तरप्रदेश, गुजरात, पंजाब आदि राज्यों की मंडियों में लहसुन की आवक कहीं कहीं पर ठीक हो रही है। जनरल भाव क्वालिटी अनुसार 2500 से 7500 रुपए प्रति क्विंटल तक रहने की चर्चा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *