लाल मिर्च में कोल्ड की तेजा आदि मिर्च में तेजी का रुख

गुंटूर मार्केट में 4000 से 10000 तक, कर्नाटक में 2000 से 14000

 

 (मोतीलाल बाफना)

रतलाम(15 अप्रैल 2019)। समाप्त सप्ताह में आंध्रप्रदेश एवं तेलंगाना की मिर्च मार्केट यार्ड गुंटूर, हैदराबाद, वरंगल, खम्मम, मेहबूबाबाद आदि मिर्च मार्केट यार्डों में मिर्च वंडरहट, तेजा डिलक्स, 334, एस-10, 341, बीसीएम, 577, डीडी, 273, 4884, नं. 5, सवर्णा बीवायडी, 355 बीवायडी, संगेटा और सीड्स क्वालिटी एवं फटकी सभी वैरायटी की मिर्च 3000 से 9500 रुपए प्रति क्विंटल तक जनरल भाव रहे। वहीं कोल्ड के सुपर माल तेजा व अन्य कुछ क्वालिटी ऊपर में 10000 रुपए प्रति क्विंटल के आसपास बिक्री होने की चर्चा है। वैसे कोल्ड स्टोरेज में रखे सुपर मालों में तेजी का रुख रहा। वहीं कर्नाटक के बेड़गी मिर्च मार्केट यार्ड में डबी, केडीएल डिलक्स, केडीएल बेस्ट और केडीएल मीडियम, 5531 संजेंटा, डीडी, केडीएल मीडियम और केडीएल फटकी अौर सीड्स फटकी आदि क्वालिटी जो बैल्लारी एवं अन्य जिलों का माल आता है वह क्वालिटी अनुसार 2000 से 14000 रुपए प्रति क्विंटल तक बिक्री होने की चर्चा है। वर्तमान में एवरेज और बेस्ट एवरेज माल ज्यादा आ रहे हैं। फटकी भी आ रहा है और उन मालों में आईलोरिजन वालों की ही डिमांड रहती है। मार्केट यार्डों में सुपर माल कम आने से ग्राहकी धीमी गति की रहने की चर्चा है। आंध्रप्रदेश एवं तेलंगाना में अब लाल मिर्च मंडियों में एक माह तक माल आकर बिकेगा। बाद में गर्मी की वजह से अवकाश रहेगा और जून माह में मंडियां प्रारंभ होगी। लाल मिर्च व्यापार में यहां के व्यापारी अपना-अपना ओपिनियन तेजी-मंदी के बारे में देते हैं जिससे व्यापारी असमंजस में पड़ जाता है। वैसे मध्यप्रदेश के रतलाम जिले के गोठड़ा माताजी में रविवार 15 अप्रैल को नवरात्रि समापन पर यज्ञ के बाद प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी घोषणा की। जिसमें लाल वस्तुओं पर इस वर्ष सुधार रहने की बात कही। वहीं देश के प्रमुख लाल मिर्च की बिक्री सेंटरों मुबंई, अहमदाबाद, पूना, अहमदनगर, जलगांव, अकोला, नासिक, सोलापुर, कोल्हापुर, सांगली, दिल्ली, जांलाधंर, लुधियाना, अमृतसर, लखनऊ, कानपुर, आगरा, गोरखपुर, बनारस, समस्तीपुर, गया, रेकसोल, पटना, मुजफ्फरपुर, कोलकात्ता, सिलीगुड्डी, गोहाटी, जोधपुर, जयपुर, उदयपुर, बिकानेर, श्रीगंगानगर, भीलवाड़ा, इंदौर, भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर, रायपुर, बिलासपुर, भुवनेश्वर, कटक, कोयम्बटूर, चैन्नई, मदुराई, सेलम, त्रिच्ची, कुम्भाकोणम, बैंगलौर, मैगंलौर, हुबली, बेडगी, गदक, हैदराबाद आदि में ट्रक भाड़ा, जीएसटी व अन्य खर्च सहित क्वालिटी अनुसार फटकी से लगाकर सभी वैरायटी माल कर्नाटक व आंध्रप्रदेश का क्वालिटी अनुसार 4000 से 17000 रुपए प्रति क्विंटल तक बिक्री होने की चर्चा है। वैसे इस वर्ष अगर बारिश अच्छी हुई तो मध्यप्रदेश, गुजरात आदि राज्यों में लाल मिर्च की बुवाई अच्छी हो सकती है। ऐसी चर्चा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *