लहसन में तेजी का वातावरण

(मोतीलाल बाफना)

रतलाम(2 जनवरी 2019)। आज मध्यप्रदेश की लहसन मंडियों पिपलिया, मंदसौर, दलौदा, जावरा, रतलाम, पिपलौदा, सैलाना, नामली, बदनावर, उज्जैन, इंदौर, भोपाल, शाजापुर, सिहोर, आष्टा, भोपाल आदि में लहसन की आवक कहीं पर अच्छी तो कहीं पर समान रही। लेकिन विगत दो दिनों से लहसन में प्रतिदिन 100 से 200 रुपए प्रति क्विंटल तक क्वालिटी अनुसार भाव में सुधार रहा। वैसे आज मध्यप्रदेश में 50 हजार बोरी के आसपास आवक रहने की चर्चा है। इसमें अधिकतर माल हल्की क्वालिटी के ही आ रहे हैं और फैक्ट्री क्वालिटी भी आ रही है। फैक्ट्री क्वालिटी लहसन 200 से 600 रुपए प्रति क्विंटल तक, मीडियम एवं एवरेज माल क्वालिटी अनुसार 700 रुपए से 1500 रुपए प्रति क्विंटल तक तथा सुपर माल 2000 से 3000 रुपए के आसपास व्यापार होने की चर्चा है। साथ ही मध्यप्रदेश में ऊटी क्वालिटी का नया लहसन थोड़ा-थोड़ा दलौदा मंडी में आना प्रारंभ हुआ है जो क्वालिटी अनुसार और माल के गिले-सूखे अनुसार व्यापार होते हैं। एक फरवरी तक ऊटी माल में आवक बढ़ जाएगी और देशी लहसन अभी बहुत कम मात्रा में आएगा ऐसी सम्भावना व्यक्त की जा रही है। क्योंकि पुराने लहसन के भाव कम होने के कारण नए लहसन में उत्पादक कृषकों का रुझान कम है। वैसे अभी राजस्थान में भी पुराना लहसन आ रहा है। वहां पर भी हल्के माल ज्यादा आने की चर्चा है। राजस्थान की मंडियों कोटा सब्जी मंडी एवं भामाशाह अनाज मंडी, बारां, छिपाबड़ौद, बेगूं, प्रतापगढ़, निम्बाहेड़ा, छोटी सादड़ी आदि में पुराना लहसन क्वालिटी अनुसार 300 रुपए से 2500 रुपए तक बिक्री होने की चर्चा है। वहीं गुजरात की गोंडल, जामनगर, राजकोट आदि मंडियों में पुराना लहसन अब निकलना प्रारंभ हुआ जो क्वालिटी अनुसार 200 रुपए से 1200 रुपए प्रति क्विंटल तक जनरल भावों पर बिक रहा है। बड़ा माल नहीं के बराबर आ रहा है। उत्तरप्रदेश की लहसन मंडियां घिरोर, ऐटा, कुरावली, बोगांव, आदि छोटी-बड़ी साप्ताहिक मंडियों में लहसन आता है जो क्वालिटी अनुसार 200 रुपए से 1500 रुपए एवरेज जनरल माल बिक रहा है। अच्छे सुपर बड़े माल क्वालिटी अनुसार ऊंचे भावों पर बिक्री होने की चर्चा है। लेकिन ज्यादातर माल बिहार, बंगाल, उत्तरप्रदेश, उड़िसा आदि तरफ की डिमांड अनुसार जा रहा है। मध्यप्रदेश का माल देशभर में डिमांड अनुसार बिक्री हेतु या व्यापारी स्वयं का मंगाकर बिक्री कर रहा है। क्यांेकि देशभर में लहसन की क्वालिटी बनाने की मशीनें लग जाने और लग रही है जिसकी वजह से अब अधिकतर माल क्वालिटी अनुसार ही बिक्री होने की चर्चा है। वहीं देश की बिक्री मंडियों मुबंई, दिल्ली, पुना, नागपुर, अकोला, बैंगलोर, हुबली, चैन्नई, वडुगापट्टी, कोयम्बटूर, मदुराई, कोलकाता, गोहाटी, बनारस, कानपुर, अहमदाबाद, सुरत, बिलासपुर, रायपुर, कटक, भुवनेश्वर, रांची, टाटा जमशेदपुर, अमृतसर, लुधियाना, जालांधंर, सोनीपत, पानीपत, करनाल, जयपुर, जोधपुर, बिकानेर, सहारनपुर, गया, पटना, समस्तीपुर, गोरखपुर, मैसूर, निजामाबाद, खम्मम, ताड़ेपल्लीगुड्म, वरंगल, रायगढ़, खड्गपुर, हुगली (बंगाल), सिलीगुड्डी, सेलम आदि में लहसन ट्रक भाड़े एवं कमीशन, खर्चे, क्वालिटी अनुसार 1200 रुपए से 2500 रुपए तक जनरल भाव और बढ़िया सुपर माल क्वालिटी एवं पैकिंग अनुसार 2500 से 3800 और कहीं-कहीं पर 4000 रुपए प्रति क्विंटल पर बिक्री होने की चर्चा है। फैक्ट्री माल महुआ (गुजरात) आदि की मंडियों में ब्रोकर के द्वारा वहां फैक्ट्री पहुंच 700 रुपए से 800 रुपए प्रति क्विंटल क्वालिटी अनुसार व्यापार होने की चर्चा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *