Uncategorized खेतिहर देश

म.प्र., राज., गुज., उ.प्र. में लहसुन की आवकें अच्छी

रतलाम 8 अप्रैल 2021 (मोतीलाल बाफना)। राज., गुज.,उ.प्र. में नए लहसुन की आवकें अब वहां की मंडियों में आवकें अच्छी बढने लग गई है। म.प्र. की अधिकांश मंडियों में एवरेज, हल्के माल की जोरदार आवकें और अच्छे माल की आवक 15 से 20 प्रतिशत तक, हल्के कली एवरेज माल में ज्यादा तर माल फेक्ट्री वाले या अन्य कली चटनी बनाकर बेचने वालों के काम का ही माल आ रहा है जो माल 1000 से 2500 तक क्वालिटी अनुसार बिक्री हो रहा है । वहीं अच्छे माल मीडियम, लावड़ा एवं फुलगोल क्वालिटी अन्य माल क्वालिटी अनुसार 3000 से 6000 के आसपास और ऊपर में कोई-कोई माल 7000 के आसपास बिक्री होने की चर्चा है । ऊंटी माल क्वालिटी माल म.प्र. की मंडियों में कही-कही पर 5000 से 13000 के आसपास पैकिंग अनुसार बिकने की चर्चा है । वैसे राजस्थान में भी अच्छे मालों में राजस्थान की लहसुन मंडी कोटा (भामाशाह अनाज मंडी एवं सब्जी मंडी), बांरा, छिपाबड़ोद, प्रतापगढ़, छोटी सादड़ी, छाबड़ा, खानपुर, झालावाड़, निम्बाहेडा आदि मंडियों में क्वालिटी अनुसार माल 2000 से 6000 तक जनरल भाव रहने की चर्चा है । हल्के एवरेज माल कम भाव पर बिकने की चर्चा है । गुजरात में गोंडल, जामनगर, राजकोट, आदि मंडियों में बेस्ट सुपर मालो में स्टाकेस्टों की खरीदी होने की चर्चा रहती है और मीडियम व एवरेज माल मंडियों में ज्यादातर बिकता है । वहां क्वालिटी अनुसार 2000 से 5000 तक जनरल भाव व कहीं-कहीं पर सुपर माल 5500 तक बिकने की चर्चा है । इसी उत्तर प्रदेश के घिरोर, कुरावली, एटा, भोगांव, ईटावा, मैनपुरी आदि छोटी-बड़ी मंडियों में मार्केट वाले दिन लहसुन क्वालिटी अनुसार 2000 से 5000 तक जनरल भाव रहने की चर्चा है और बेस्ट सुपर माल ऊंचे भाव पर व्यापार हो रहा है। मध्यप्रदेश के अधिकांश जिलो/शहर में एक बार फिर से कोरोना महामारी के कारण लाकडाऊन की खबरें चल रही है । रतलाम में भी 9 दिनों के लाकडाऊन की खबर चल रही है जो 9 अप्रैल शुक्रवार शाम 6 बजे से 9 दिन का लाकडाऊन लगने की चर्चा जोरों पर है । वैसे देश के अधिकांश शहरो में लाकडाऊन से वहां का व्यापार व्यवसाय बुरी तरह से अस्त व्यस्त एवं कई व्यापारियों का व्यापार भी ठप्प हो सकता है। लाकडाऊन के विरोध में नागपुर, मुम्बई सहित महाराष्ट्र के कई शहरों एवं मध्यप्रदेश में भी धीरे-धीरे व्यापारियों में दबी जुबान विरोध के स्वर उठते दिख रहे है कि कोरोना महामारी का इलाज क्या लाकडाऊन है ? व्यापारी जगत में चर्चा है कि अगर शासन/प्रशासन सुव्यस्थित रूप से व्यवस्था संचालित करें तो सब मिलकर बैठ कर चर्चा से समस्या का हल भी निकाला जा सकता है ? पहले ही पिछले वर्ष की मार से छोटे-मध्यम व्यापारियों की कमर व्यापार में टुटी हुई है । गाड़ी पटरी पर लाने का प्रयास जारी था कि अब पुन: यह समस्या लाकडाऊन की ओर होने से इसका असर अर्थव्यवस्था पर भी पढऩे की पूरी-पूरी संभावना है ? लाखो लोग जो बेरोजगार की तरह घुमेंगे उनकी क्या व्यवस्था होगी यह भी चर्चा है ? देश के कई बिक्री सेंटरो पर लहसुन में ग्राहकी कमजोर होने और लाकडाऊन की चर्चाओ के बीच व्यापार व्यवसाय ढिला होने के कारण लहसुन के बाजार भाव पर भी इसका असर देखने को मिल सकता है । अभी उत्पादन क्षैत्रों की मंडियों में जो भाव मध्यप्रदेश में चल रहे है वह भाव बिक्री सेंटरो पर होने के कारण लहसुन का व्यापार अस्त व्यस्त चलने की चर्चा है। क्योंकि पिछले कुछ माह से लहसुन और प्याज में तेजी-मंदी का माहौल इतना चला कि कई व्यापारियों के व्यापार करने के हौंसले ढगमगाने लगे ? एक तो दुकानों के खर्चे ऊपर से मंडियों का बार-बार बंद रहना व्यापार व्यवसाय पर बुरा असर होने की चर्चा रहती है । जिससे कि व्यापारियों को पैसा डुबने की संभावना ज्यादा हो जाती है । देश की मुख्य लहसुन बिक्री मंडी उप्र, बिहार, बंगाल, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, गोहाटी, जोधपुर, जयपुर, बीकानेर, श्रीगंगानगर, गोधरा, दाहोद, वड़ोदरा, अहमदाबाद, सूरत, मुम्बई, पुना, बैंगलौर, वडूगापट्टी, कोयम्बटूर, कटक, भुवनेश्वर, भ्रदक, जाजपुरटाऊन, संभलपुर, राहुलकेला, बरगड़, भारीपदा, सैलम, मदुराई, मद्रास, त्रिची, कूम्भाकोड़म, नैल्लूर, हैदराबाद, ताड़ेपल्लीगुडम, विजयवाड़ा, विशाखापट्टम, राजामहेन्द्री, समस्तीपुर, गया, मुजफ्फपुर, गोरखपुर, पटना, लखनऊ, कानपुर, बनारस, ईलाहाबाद (प्रयागराज), अमृतसर, लुधियाना, जालंधर, करनाल, गुडग़ांव, केरला के त्रिशूर, पालघाट, कालीकट, कोचीन, कलकत्ता, वर्धमान, बांग्लादेश बार्डर की प्रमुख मंडी एवं सेंटरों पर लहसुन मध्यप्रदेश, गुजरात, राज., उत्तर प्रदेश आदि राज्यों का अपने वहां से लोर्डिंग माल वहां की क्वालिटी अनुसार ट्रक भाड़ा, वजन घटी, खर्चे मुताबिक 2000 से 7000 तक जनरल भाव, बेस्ट सुपर माल ऊपर में पैकिंग और क्वालिटी अनुसार 7000 से 10000 तक और ऊंटी माल 7000 से 13000 तक जनरल भाव वहीं एक-दो लाट कहीं-कहीं पर 14000 के आसपास भी बिकने की चर्चा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *