Uncategorized खेतिहर रतलाम राज्य

सहयोग और सहानुभूतिपूर्ण रवैये के साथ मरीजो को स्वास्थ्य सेवाए प्रदान करें – श्री अनुपम राजन

कोविड-19 के प्रभारी अधिकारी श्री अनुपम राजन ने रतलाम जिले में कोविड संबंधी व्यवस्थाओं का जायजा लिया

रतलाम । रतलाम जिले के कोविड-19 अन्तर्गत राज्य शासन द्वारा नामांकित प्रभारी अधिकारी श्री अनुपम राजन ने जिले में कोविड के लिए किए जा रहे नियंत्रण, उपचार एवं देखभाल संबंधी व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया। श्री अनुपम राजन ने रतलाम शहर के कंटेनमेंट झोन गुलमोहर कालोनी तथा काटजू नगर में भ्रमण कर नागरिकों से चर्चा की। उन्होंने मेडिकल कालेज के फिवर क्लीनिक एवं ट्राईएज एरिया का निरीक्षण किया। यहां मौजूद व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी देते हुए डा. जितेन्द्र गुप्ता ने बताया कि वर्तमान में मेडिकल कालेज में 330 मरीजों रखे जाने की व्यवस्था उपलब्ध है तथा 177 मरीज अस्पताल में भर्ती हैं जिनमें 144 मरीज कोविड पाजीटिव हैं। मेडिकल कालेज में आईसीयू अन्तर्गत 50 मरीजों को रखे जाने की व्यवस्था है तथा 30 मरीज वर्तमान में भर्ती हैं। कालेज में 53 वेंटीलेटर और 29 बायपेप मशीन उपलब्ध है। मरीजों के लिए आवश्यक सभी व्यवस्थाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। श्री अनुपम राजन ने जनपद पंचायत स्थित ई-दक्ष केन्द्र पर मरीजों की निगरानी संबंधी व्यवस्थाओं की बारिकी से पडताल की। उन्होंने पांच मरीजों से वीडियो काल कर उनके उपचार तथा देखभाल संबंधी फिडबेक प्राप्त किया। मरीजों द्वारा व्यवस्थाओं के प्रति संतुष्टि व्यक्त की गई। उन्होंने मरीजों के लिए आवश्यक मनोवैज्ञानिक सहयोग एवं समय-समय पर परामर्श उपलब्ध कराने तथा मरीजों का संबल बनाए रखने की बात कही। उन्होंने कहा कि अस्पताल में भर्ती मरीजों की उनके परिजनों से बात कराई जाए। कलेक्टर श्री गोपालचन्द्र डाड ने बताया कि जिले में आईएमए की टीम तथा महिला बाल विकास विभाग एवं मानव सेवा समिति के सदस्यों द्वारा मनोवैज्ञानिक सहयोग प्रदान करने संबंधी कार्यवाही की जा रही है। कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में प्रभारी अधिकारी ने मेडिकल कालेज डीन, सीएमएचओ, सिविल सर्जन तथा जिले के एसडीएम की बैठक को सम्बोधित किया। बैठक में उन्होंने कोविड संबंधी सभी आवश्यक उपलब्ध संसाधनों का अधिकतम उपयोग करने की बात कही। उन्होंने निर्देशित किया कि रेलवे हास्पीटल का उपयोग कोविड संबंधी मरीजों को भर्ती करने में किया जाए। बैठक में मेडिकल कालेज की डीन डा. शशि गांधी ने बताया कि विगत माह के मरीजों में 61 से 70 वर्ष आयु समूह जिनमें उच्च रक्तचाप और डायबिटिज पाया गया, उनमें मृत्यु का प्रतिशत अधिक पाया गया। सीएमएचओ डा. प्रभाकर ननावरे ने बताया कि मरीजों के सेम्पल की रिपोर्ट लगभग 24 घंटे में उपलब्ध कराई जा रही है। आक्सीजन, आवश्यक दवाईयां आदि पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। प्रभारी अधिकारी ने निर्देशित किया कि गंभीर लक्षण वाले मरीजों जिनको चिकित्सकीय देखभाल की आवश्यकता है, और घरों में होम आईसोलेशन के लिए पर्याप्त व्यवस्था नहीं है, ऐसे मरीजों को संस्थागत भर्ती कर आवश्यक देखभाल और पूरा उपचार प्रदान किया जाए। जिले के अधिकारी जिले में संक्रमण दर रुग्णता दर और मृत्यु दर को कम करने के लिए सभी आवश्यक कार्यवाही करें एवं राज्य स्तर संबंधी किसी भी समस्या के लिए जिला कलेक्टर के माध्यम से अवगत कराएं। उन्होंने राज्य स्तर पर प्रयास कर मानव संसाधन उपलब्ध कराने की बात कही। उन्होंने कहा कि राज्य शासन पूर्ण संवेदना और सहानुभूति के साथ मरीजों को आवश्यक स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए कटिबद्ध है। वर्तमान में अधिक ठण्ड के कारण वायरस का प्रकोप बढने की आशंका है। जिला स्तर पर नियंत्रण संबंधी गतिविधियों का उद्देश्य लोगों के स्वास्थ्य की रक्षा करना है। कलेक्टर श्री डाड ने निर्देशानुसार सभी आवश्यक कार्रवाई करने की बात कही। भ्रमण एवं बैठक के दौरान पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी, एसडीएम शहर श्री अभिषेक गेहलोत, डिप्टी कलेक्टर सुश्री शिराली जैन, अपर कलेक्टर श्रीमती जमुना भिडे, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री बाकलवार, सीएसपी श्री हेमन्त चौहान, सिविल सर्जन डा. आनन्द चंदेलकर, बीएमओ एवं अन्य चिकित्सा अधिकारी, कर्मचारी आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *